मंगलवार, 16 सितंबर 2014

खङीन से आबाद हैं थार।

सुमेर सिंह लौद्रवा
जैसलमेर
थार रेगिस्तान में प्राचीनकाल में विकसित एक ऐसी कृषि प्रणाली मौजूद हैं जो एक नखलिस्तान का एहसास करवाती है। खङीन पद्धति द्वारा रेगिस्तान में परम्परागत बाजरे, मोठ एवं ग्वार आदि के साथ-साथ गेंहू एवं चने की फसलों का उत्पादन भी किया जाता है। औसत बारिश होने पर उनाळू कृषि में बाजरा, ग्वार आदि का उत्पादन किया जाता है और अच्छी बारिश होने पर सियाळू कृषि में गेंहू व चने का उत्पादन होता है। राजस्थान के रेगिस्तानी भाग में प्राचीन काल से प्रचलित यह कृषि प्रणाली आज भी उतनी ही प्रासंगिक है। जैसलमेर जिले में आज भी कईं खङीन मौजूद है। यहां पर इस प्रणाली की व्यवस्थित तरीके से शुरुआत का श्रेय पालीवाल ब्राह्मणों को जाता है जो अपने समय में धन-धान्य से परिपूर्ण एवं समृद्धशाली थे। उनके जैसलमेर से उजङने के बाद उनके द्वारा बनाये गये खङीनों का उपयोग स्थानीय लोगों द्वारा किया जा रहा है। खङीन जैसलमेर के रेगिस्तानी अर्द्धशुष्क भाग में स्थित ऊँचे भाग की ढालों में स्थापित किये गये है। इन ऊँचे भागों का बरसाती पानी ढलान में इकट्ठा किया जाता है। खङीन का निर्माण सुव्यवस्थित एवं वैज्ञानिक तरीके द्वारा किया गया है। इसके मुख्य भाग-आगोर, खङीन, धोरा एवं नाला है।
आगोर- आगोर वह भाग होता है जहां से पानी बहकर ढलान की ओर आता है। यह ऊँचा एवं पहाङी भाग होता है।
खङीन- खङीन वह भाग होता है जहां आगोर का पानी इकट्ठा होता है। यह भाग सबसे महत्वपूर्ण होता है इसी भाग में फसल का उत्पादन होता है।
धोरा- यह खङीन के तीन ओर बनी मिट्टी की दीवार होती है जो आगोर के पानी को खङीन में रोके रखती है। धोरे पर खेजङी व अन्य स्थानीय प्रजातियों के पेङों की बहूलता होती है।
नाला- बुवाई के समय तक अगर खङीन में पानी भरा रहता है तो धोरे में ढलान वाले क्षैत्र में बने नाले से खङीन खाली करके बुवाई की जाती है। नाला खङीन के पानी की निकासी के लिए बनाया जाता है। खङीन के साथ-साथ छोटे खङीन स्थापित होते हैं उनकी सिंचाई मुख्य खङीन से निकाले गये पानी द्वारा की जाती है।
खङीन में उत्पादन की जाने वाले फसलों में किसी भी प्रकार की रासायनिक खादों का प्रयोग नहीं किया जाता है। खङीन के खाद्यानों को पौष्टिकता के कारण तवज्जो दी जाती है। वर्तमान में नहर व नलकूपों की सुविधा होने बावजूद खङीन अपनी विशिष्टता के कारण जगह बनाये हूए है।
खङीन कृषि प्रणाली जैसलमेर में ग्राम्य पर्यटन की संभावना का मुख्य आधार है। विषम परिस्थितियों में यहां के निवासियों द्वारा स्थापित यह कृषि प्रणाली दर्शनीय तो है ही और इनके द्वारा कृषि व्यवस्था को जानने एवं समझने में भी सहायता मिलती है कि किस तरह विषम परिस्थितियों में भी इस प्रकार की प्रणाली विकसित की गई जो रबी एवं खरीफ दोनों फसलों का उत्पादन करती है। इसके धोरों पर लगाये गये खेजङी, बोरङी, लवा आदि स्थानीय प्रजाति के पेङ-पौधे इसकी सून्दर छटा को विशिष्टा प्रदान करते है।
जैसलमेर के खङीनों में तणूसर, लाखीणा, मसूरङी, रोहङीवाला एवं दोहटोंवाला प्रमूख है।
 


 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें